moral stories in hindi for students

0

यह कहानी आप लोगो की जिन्दगी बदल देगी, इस पोस्ट में moral stories in hindi for students बताने जा रहा हूँ जिसे पढ़ने के बाद आप लोगो को एक छोटी सी सीख मिलती है लेकिन यह छोटी सी चीज आपकी जिंदगी बदल देगी ।

तो दोस्तो क्या छोटी सी चीज सीखने को मिलने वाली हैं ये तो आप लोगो को इस कहानी को पूरा पढ़ने के बाद ही मिलेगा, तो दोस्तो इस कहानी को बड़े ही ध्यान से पढ़िये ।

दोस्तो किसी ने बड़े ही कमाल की बात कही हैं इस जिंदगी में हमेशा दो तरह के लोगों से सावधान रहना, पहले वह जो आप में वह कमी बताएं जो आप में है ही नहीं और दूसरे वो जो आप में वह खूबी बताएं जो आप में है ही नहीं ।

तो चलिए दोस्तो moral stories in hindi for students की शुरुआत करते हैं ।


moral stories in hindi for students

बहुत समय पहले की बात हैं एक राज्य में एक राजा रहता था, उस राजा की कोई संतान नहीं थी, उत्तराधिकारी नहीं चुन पा रहा था, बूढ़ा हो चला था और अब जरूरत थी इस राज्य को अगला राजा देने की, अपने मंत्रियों से बात की तो उन्होंने बताया कि आप किसी को adopt कर लीजिए,

तो किसी ने कहा महाराजा साहब आप तो किसी को adopt करने के बजाय किसी को भी आपकी पसंद के, किसी भी मंत्री को राजा बना देना, राजा को ये सब समझ मे नहीं आ रहा था, किसी ने कहा कॉम्पिटिशन रखवा लीजिये, यह सुनकर राजा को यह सुझाव ठीक लगा, तब राजा ने कहा चलो अब एक काम करते हैं,

किसी भी तरह की कोई कॉम्पिटिशन नहीं होगी, सिंपल एक इंटरव्यू होगा, जो भी आएगा मुझसे बात करेगा और मैं बात करके पहचान लूंगा की क्या वो अगला राजा बनने के लायक हैं या नहीं, फिर ने कहा आप इसमें एक criteria डाल दीजिए की इस टाइप के लोग ही इसमें भाग ले सकते हैं,

तब राजा ने कहा कि कोई भी व्यक्ति आ सकता हैं किसी भी उम्र की व्यक्ति आ सकता हैं और आ करके अगले राजा के लिए इंटरव्यू दे सकता हैं, अब यह बात धीरे धीरे पूरे राज्य, कस्बो, गांव और शहरों में पहुच गई, तो सब तरह के लोग उस राज्य में इंटरव्यू देने के लिए पहुच गए,

एक छोटा से गांव में एक लड़का जो किसानी करता था और वह बहुत मेहनती था, जब यह बात इस लड़के को पता चला तब वह अपने पिताजी से बोला कि मैं भी वहा जाकर एक बार इंटरव्यू दूंगा, तो उसके पिताजी ने कहा देख लो एक बार जाकर लेकिन मुझे नही लगता कि कुछ हो पायेगा,

उस उड़के ने कहा मैं एक बार कोशिश करके देखता हूं, लड़के के घरवाले ने हां कह दी, अब वह अगले दिन इंटरव्यू देने के लिए तैयार था, लेकिन सवाल यह था कि उसके पास ढंग से कपड़े नहीं थे, अब ढंग से कपड़े नहीं थे तो उसको अंदर से घिन आने लगी कि मैं कैसे इंटरव्यू दूंगा, पता नहीं जब राजा मुझे पहली बार देखेंगे तो क्या सोचेंगे ।

उसने अपने पिताजी से कहा कि मुझे कुछ पैसे चाहिए, फिर जैसे तैसे उधारी करके कही से भी जुगाड़ करके एक अच्छा सा जैकेट बनवाया, पुराने से फ़टे हुए कपड़े थे, पुरानी  पैंट थी उसके ऊपर अच्छा सा जैकेट डालकर इंटरव्यू देने के लिए निकल पड़ा ।

रास्ते मे जाते जाते सोच रहा था कि क्या क्या सवाल पूछे जा सकते हैं ? किस किस का मुझे जवाब देना हैं ? ऐसी बहुत सारी अंदर जो कि हर इंसान की के साथ होता हैं, जब भी इंटरव्यू के लिए जाते हैं तो बहुत कुछ माइंड में चल रहा होता हैं, फिर वह राज्य पहुँच गया फिर उसे भिखारी दिखाई दिया जो सड़क के किनारे बैठा हुआ था,

सर्दी का मौसम था, ठिठुर रहा था और उसने उस लड़के से कहा की बाबूजी मेरी कुछ मदद कर दोगे, मुझे कुछ ओढ़ने के लिए देकर चले जाओ, चूंकि उस लड़के के पास कुछ भी नहीं था, थोड़ा सा राशन पानी था लेकिन उससे भी काम नही होने वाला था, क्योंकि उस भिखारी को कपड़ा ही चाहिए ।

लड़का ने जैसे तैसे करके जुगाड़ करके उधारी से जैकेट लाये थे की चलो इससे इज्जत बच जाएगी लेकिन उसके मन ने कहा चलो इसे ही निकाल के दे दु, फिर लड़के ने यही जैकेट निकाल के भिखारी को दे दी ।

इसे भी पढ़े – Sandeep Maheshwari Quotes and Biography in Hindi 

उसके बाद वह आगे राजमहल में चला गया, राजा के सैनिक ने कहा आप अभी यही रुक जाइये, कुछ समय बाद भी आपका नंबर आ जायेगा, वह बैठे बैठे मन ही मन सोच रहा था अब तो सब कुछ बिगड़ गया हैं, मेरे पास तो जैकेट भी नही अब मेरा क्या होगा ।

लेकिन कोई बात नही यहा तक आ गया हूं तो एक बार राजा से मिलकर ही जाऊंगा नही तो पिताजी पूछेंगे की क्या हुआ, फिर कुछ समय बाद उसका नंबर आया और वह राजा के कक्ष में पहुँचा तो राजा वहां नही था, फिर थोड़ी देर बाद राजा आया ।

जैसे ही राजा आया इस लड़के के पैरों के नीचे जमीन खिसक गई, उसे समझ मे ही नही आया कि ये क्या हो गया हैं क्योकि जो राजा था वो वही भिखारी था जो थोड़ी देर पहले रास्ते में मिला था जिसने उसका बहुत ही कीमती जैकेट ले लिया था ।

अब लड़के से कुछ बोला नहीं जा रहा था अब उसमें ऐसे ही इशारो में पूछा कि क्या आप वही हो जो मुझे रास्ते मे मिला था, फिर राजा ने कहा हां मै वही भिखारी हुं जो थोड़ी देर पहले तुम्हे मिला था, फिर लड़के ने पूछा कि आपने मेरे साथ ऐसा क्यों किया ? ये कौन सी परीक्षा ले रहे थे ? मेरे पास ही जैकेट थी जो आपने ले ली और आप ही राजा हैं, मुझे तो कुछ समझ मे ही नही आ रहा हैं मै क्या बोलू ?

राजा ने बोला परेशान मत हो, अगर मैं राजा बनके सबसे पहले तुम्हारे सामने आता तो मैं जो बोलता वो तुम कर देते, तुम दुनिया का वो हर काम कर देते मुझे इम्प्रेस करने के लिए और अगला राजा बनने के लिए लेकिन मैं तुम्हारे सामने सबसे पहले भिखारी बनके आया ।

मैं तुम्हारे असली चरित्र को जानना चाहता था कि तुम अंदर से कैसे हो, सर्दी का मौसम है और मैं वहा पर भिखारी बनके ठिठुर रहा था, मुझे नही लगता की तुम्हारे पास घर पर ज्यादा कपड़े होंगे बड़ी मुश्किल से तुम शायद ये लेकर आये होंगे, सबसे पहले तो ये जैकेट अपना वापस लो ।

और अब से तुम इस राज्य के अगले राजा हो, फिर लड़के ने कहा कि आपने तो मुझे कुछ पूछा ही नही ये कौन सा तरीका हैं, फिर राजा ने कहा कि मुझे सब समझ मे आ गया हैं,

“जो इंसान दिल से अच्छा होता हैं जो बिना किसी स्वार्थ के दुसरो की मदद करता हैं और जो अपने पास नही फिर भी सामने वाले कि मदद के लिए तैयार हो जाता हैं वही इंसान सबसे अच्छा इंसान होता हैं”

इसलिए मुझे राज्य के लिए ऐसे राजा की तलाश थी जो सबसे पहले अच्छा इंसान हो इसलिए मैंने कोई age, ग्रुप नही लगाया था ।


दोस्तो यह छोटी सी कहानी जो बहुत बड़ी बात सिखाती हैं जिंदगी में हम सब चाहते हैं कि सब लोग हमसे प्यार करे, सब हमे चाहे, हमारे बारे में बहुत लोग जाने लेकिन सबसे जरूरी चीज हैं कि क्या आप सबसे प्यार करने के लिए तैयार हैं, क्या आप सबकी मदद करने के लिए तैयार हैं ।

दोस्तों बहुत ही खूबसूरत सा मैसेज ये कहानी देती हैं “जिंदगी में यदि कुछ बनना हैं तो सबसे अच्छा इंसान बनो, दोस्तो पैसे तो हमे कमाते रहते हैं लेकिन जिस दिन दुआएं कमाते रहेंगे शायद उस दिन चमत्कार होगा” ।

तो दोस्तो आप लोगो को यह moral stories in hindi for students कैसी लगी हमे कमेंट करके जरूर बताएं और आपके पास भी ऐसी कोई कहानी हैं तो हमे शेयर जरूर करे ।

Also Read – Best Shayari of Rahat Indori and Biography

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here