Short Horror Story In Hindi | मृत माँ की ममता

0

Hello दोस्तो आज मैं आप सभी को एक Short Horror Story In Hindi (मृत माँ की ममता) की कहानी बताने जा रहा हु, यह कहानी थोड़ा हटके और सबसे अलग है, यह कहानी Horror के साथ साथ एक Emotional Story भी है जो आपको निश्चित ही आपके आंखे को नम कर देगी ।

दोस्तो यह एक माँ के ऊपर आधारित कहानी है जो अपनी बच्ची से बहुत प्यार करती है इसलिए मरने के बाद भी अपनी बच्ची की जान बचाने के लिये आ गयी | ऐसे भी दोस्तो दुनिया में हर माँ अपने बच्चों को खुद से ज्यादा प्यार करती  है ।

मां की ममता को कौन नहीं जानता माँ ही दुनिया में ऐसा भगवान है जो हर किसी के पास होती है, आपको हर तरह की खुशी देना चाहती है वह अपना ही पेट काटकर अपने बच्चों का पेट भरना जानती है ।

दोस्तो एक माँ ही है जो  हमें सबसे पहले तो  9 महीने अपने पेट मे पालती है, इन 9 महीने उसे कितनी मुश्किलों का सामना करनी पड़ती है इसे एक माँ ही जान सकती है । अपने बच्चे के लिए सारा दुःख दर्द खुद पी जाती है | जब हम इस धरती पर आते है तो हमें खुश और हमारे पालन पोषण में अपना पूरा जीवन निकाल देती है वो एक माँ ही है |

दोस्तो आज मैं इसी माँ की ममता पर एक सच्ची घटना पर आधारित एक लघु कहानी लाया हूं तो चलिए दोस्तो Short Horror Story In Hindi (मृत माँ की ममता) की कहानी शुरू करते है ।


Short Horror Story In Hindi

हिमांशु जो 27 साल का है उसकी अभी-अभी नई शादी हुई है उसकी एक बहुत ही खूबसूरत सी बीवी है, वह दोनों हनीमून मनाने के किये हिमाचल गए थे जहां उन्होंने 4 दिन गुजारे अब उनकी मुम्बई अपने घर वापस आने का समय हो गया था ।

शाम होते दोनों अपनी गाड़ी में बैठ गए और मुम्बई के लिए निकल पड़े | दोनो आराम से गाड़ी में मस्ती करते हुए आ रहे थे | धीरे धीरे वे दोनों हिमाचल की घाटी को पार कर रहे थे और घाटी दिखने में जितनी ज्यादा सुन्दर लग रही ही थी उतनी ही ज्यादा डरावनी भी थी |

रात के 11:30 बज गए थे अब वो हिमाचल की घाटी को पार करने ही वाले थे कि रोड बिल्कुल सुनसान पड़ चुकी थी | अचानक हिमांशु को अपनी गाड़ी के आगे एक औरत दिखी जिसने लाल रंग की साड़ी पहनी हुई थी, वह दूर से ही हाथ हिलाकर गाड़ी को रोक रही थी |

हिमांशु की बीवी बोली – आप गाड़ी मत रोकिये क्योकि ये कोई लूटपाट करने की चाल तो हो सकती है ।

लेकिन वह औरत गाड़ी के सामने आ गई जिसके कारण हिमांशु को गाड़ी रोकनी पड़ी वो औरत जोर-जोर से दरवाजे को ठोकने लगी और उसके चेहरे के हाव-भाव से ऐसा लग रहा था जैसे वो किसी बड़ी मुसीबत में हो ।

हिमांशु की बीवी ने कहा – आप गाड़ी का दरवाजा मत खोलिये मुझे बहुत डर लग रही है, हो सकता है ये कोई चाल हो हमें बाहर नहीं जाना चाहिए ।

हिमांशु ने कहा – “अगर सच में किसी मुसीबत में होगी तो” और उसे हमारी जरूरत हो क्योंकि उसको देखकर वह अच्छी खासी घर की लग रही है, अब मैं गाड़ी का दरवाजा खोलता हूँ, तुम डरना मत कुछ नही होगा ।

यह बोलते ही हिमांशु ने गाड़ी के दरवाजे खोल दिया और बाहर आ गया ।

वह औरत घबराते हुए बोली – प्लीज मेरी मदद करो ।

हिमांशु ने कहा – क्या हुआ आप इतनी घबराई हुई क्यो हो ।

वह औरत बोली – मेरी गाड़ी नीचे खाई में गिर गई है एक पेड़ से टकरा गई है उसमें मेरी एक छोटी सी बच्ची फंसी हुई है प्लीज उसको बाहर निकालो Plz मदद कीजिये ।

यह सुनते ही हिमांशु की बीवी भी बाहर आ गई और तीनों खाई की ओर भागे उन्होंने देखा कि वह गाड़ी थोड़ी नीचे पेड़ से टकराई हुई है हिमांशु तुरंत से नीचे की ओर गया उसने देखा कि पीछे वाली सीट पर एक बच्ची बैठी है, जो रो रही है ।

हिमांशु ने दरवाजा खोलना चाहा लेकिन वह नहीं खुला दरवाजा किसी चीज से फंसा हुआ था | बहुत कोशिश की तब जाकर वह दरवाजा खुला | हिमांशु ने उस बच्ची को बाहर निकाला और अपनी गोद में रख लिया लेकिन वह बच्ची अभी भी रोए जा रही थी और मम्मी मम्मी कह रही थी|

तभी अचानक हिमांशु की नजर आगे वाली ड्राइविंग सीट पर गई जहां उसे कोई बैठा हुआ लगा | लेकिन आगे वाली गाड़ी का शीशा धुंधला था तो साफ नजर नहीं आ रहा था हिमांशु उसने अपने कपड़े से उसे साफ किया ।

फिर उसके बाद जो हिमांशु ने देखा उसे देखकर उसकी पैरों तले जमीन खिसक गई | उसको तो विश्वास ही नहीं हो रहा था | उसने देखा कि आगे वाली सीट पर और कोई नहीं बल्कि बच्ची की मां थी जो मदद के लिए हिमांशु को बुलाने आयी थी ।

उसने देखा कि वह औरत के माथे से खून निकल रहा है और उसकी मौत हो चुकी है हिमांशु की पत्नी ने उसकी हालत देखकर तुरंत से उसके पास आई और वह भी यह मंजर देख कर हैरान हो गई है ।

यह देखते ही हिमांशु और उसकी पत्नी ने पीछे की ओर देखा जहां वो औरत खड़ी थी लेकिन अब वहां कोई भी नहीं था, अब दोनों को समझ मे आ गया था कि वह औरत कौन थी, फिर उन दोनों ने उस बच्ची को अपने साथ ले गए ।

तो दोस्तों इसी के साथ यह कहानी खत्म होती है अब आप भी समझ गए होंगे कि वह कौन थी जो हिमांशु के पास मदद लेने गई थी । यह  मां की ममता है जो मरने के बाद भी अपने बच्चे को बचाने के लिए एक आत्मा बनकर आई ।

अगर आप लोगो को यह कहानी पसंद आई तो प्लीज नीचे कमेंट करें और हमारे साथ जुड़े रहें |

यदि दोस्तों आपके पास Hindi में कोई Article, Short Horror Story in Hindi या जानकारी है जो आप हमारे साथ शेयर करना चाहते है तो कृपया उसे अपनी फोटो के साथ E-mail करे, हमारा id है [email protected] , पसंद आने पर हम उसे आपके नाम और फोटो के साथ यहाँ Publish करेंगे, Thanks.

इसे भी पढ़े

Suspense Story in Hindi | केस की तह तक जाना

A Short Story on Friendship in Hindi | सच्चे दोस्त के महत्त्व को बताने वाली कहानी 

Hindi Short Stories PDF

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here