Story For Kids in Hindi | शेर राजा और लोमड़ी का बच्चा

0

Hello दोस्तों हमारे इस Story In Hindi वेबसाइट पर आप सभी का स्वागत है, आज मैं आपको Story For Kids in Hindi ( शेर राजा और लोमड़ी का बच्चा ), की कहानी बताने जा रहा हु | इस कहानी के अंत में आपको एक बहुत ही छोटी सी और जरुरी बाते सीखने को मिलने वाली है यदि आपके बच्चे को अच्छे संस्कार देना है तो कहानी ही सबसे Best Option है |

दोस्तों कहानी एक ऐसा माध्यम है जिसके द्वारा हम अपने बच्चों को कोई भी चीजे बड़ी आसानी से समझा सकते है, कहानी से बच्चे ही नही बड़ो को भी नई – नई चीजे सिखने को मिलती है, तो चलिए दोस्तों Story For Kids in Hindi ( शेर राजा और लोमड़ी का बच्चा ), कहानी की शुरुआत करते है |


Story For Kids in Hindi | शेर राजा और लोमड़ी का बच्चा

बहुत समय पहले की बात है एक छोटा सा जंगल था और उस जंगल में सभी जीव जंतु निवास करते थे, सभी अपनी जिंदगी ख़ुशी ख़ुशी जी रहे थे, सभी अपने जीवन जीने में व्यस्त थे, कभी हिरण चारे की तलाश में इधर – उधर भटकते तो कभी तेंदुआ शिकार के लिए इधर – उधर भटकते तो कभी मगरमच्छ भी अपने मौके के इंतजार में रहते, इस तरह सभी जानवर की जिन्दगी चल रही थी |

उसी जंगल में जंगल का राजा बब्बर शेर भी रहता था  वह बहुत ही खतरनाक था और साथ में दयालु भी था | वो अपनी बीवी शेरनी और अपने दो प्यारे-प्यारे नन्हे-मुन्हे मासूम बच्चो के साथ ख़ुशी ख़ुशी जिंदगी जी रहे थे, वह अपनी बीवी और बच्चो से बहुत प्यार करता था |

फिर एक दिन अचानक कुछ डाकुओ ने मिलकर जंगल पर हमला कर दिया | वे लोग बहुत ही खतरनाक थे और उनके पास बड़े-बड़े हथियार भी थे | जंगले में अफरा – तफरी मच गई, सभी जानवर इधर – उधर भागने लगे, किसी को भी समझ में नही आ रहा था की क्या करे| डाकू लोग जानवरों को कैद कर रहे थे तभी उन डाकुओ के पास जंगल का राजा बब्बर शेर आया |

बब्बर शेर ने अपनी जान की बिना परवाह किये ही जंगल के जानवर को बचाने के लिए उन डाकुओ पर हमला कर दिया | बब्बर शेर बहुत गुस्से में आ गया क्योकि बब्बर शेर इस जंगल का राजा था तो उसका फर्ज बनता था की वो अपनी प्रजा की रक्षा करे  बब्बर शेर ने दहाड़ लगाई और उसकी एक दहाड़ से सभी डाकु दहशत में आ गये और जंगल छोडकर भाग गये| इस तरह जंगल के राजा अपनी प्रजा की रक्षा की |

डाकुओ के हमले के कारण बहुत से जानवरों को बहुत नुकसान हुआ कई जानवर घायल हो गये तो कई मर भी गये तो कोई अफरा तफरी के कारण अपनों परिवार वालो से बिछड़ गये |

जंगल का राजा डाकुओ को भगाने के बाद वापस अपनी गुफा में जा रहे थे तभी उसे झाड़ियो में कुछ रोने की आवाज आई | वह झाड़ियो के पास गया और देखा तो वहा एक प्यारा सा लोमड़ी का बच्चा रो रहा था वह बच्चा बहुत ही मासूम था और बहुत डरा हुआ था | शेर राजा ने आसपास देखा तो कोई नही दिखा फिर शेर राजा उसे अपने साथ अपने घर ले गये |

जब उस लोमड़ी के बच्चे को उसके बच्चो ने देखा तो वे लोग बहुत खुश हो गये, लोमड़ी का बच्चा भी उन लोगो को देखकर बहुत खुश हो गया फिर साथ में तीनो बच्चे एक साथ खेलने लगे | तीनो एक साथ बहुत मस्ती करते थे और शेरनी भी लोमड़ी के बच्चे को अपने बेटे के जैसा प्यार करती थी सभी एक साथ बहुत खुश थे |

फिर एक दिन लोमड़ी के बच्चे बहुत उदास बैठे रो रहा था तभी शेरनी ने पूछा क्या हुआ बच्चे इतने उदास क्यों हो ?  फिर लोमड़ी के बच्चे ने कहा मुझे अपने मम्मी पापा की बहुत याद आ रही है मुझे अपने मम्मी पापा के पास जाना है मुझे अपने परिवार के पास जाना है अब मैं ज्यादा दिन और नही रुक सकता | यह सुनकर शेरनी को बहुत दुःख हुआ और कहा घबराओ मत मेरे बच्चे हम तुम्हारे परिवार को ढूंढेंगे | और फिर अगले दिन सुबह शेर का परिवार लोमड़ी के परिवार को ढूंढने निकल पड़ा |

सभी ने इधर-उधर बहुत ढूंढा लेकिन कही नहीं मिला फिर वापस अपनी गुफा में आ गये अगले दिन फिर सुबह ढूंढने निकल पड़े ढूंढते-ढूंढते शाम हो गया फिर अचानक लोमड़ी के बच्चे ने अपने परिवार वालो को देखा वह बहुत खुश हो गया और बोला वह रहे मेरे परिवार वो रही मेरी मम्मी, वो रहे मेरे पापा और वो रहा मेरा पूरा परिवार |

शेर का परिवार कुछ दूर रुका और और लोमड़ी को उसके परिवार के पास लौट जाने को कहा | जाते वक्त सभी एक दुसरे को बाय-बाय करने लगे फिर लोमड़ी का बच्चा दौड़ते हुए अपने परिवार के पास गया सभी उसे देखकर बहुत खुश हो गये और अपने गले लगा लिए |

तो दोस्तों इस तरह इस Short Story का अंत हुआ |

तो दोस्तों  Story For Kids in Hindi (शेर राजा और लोमड़ी का बच्चा), की कहानी से हमे यह सीख मिलती है की अपनों के बिना जीवन अधूरा होता है, अपनों से दूर रहकर हम ज्यादा दिन खुश नही रह सकते |

तो दोस्तों यह जंगल की कहानी कैसी लगी हमे Comment करके जरुर बताये और साथ ही ये भी बताये की अगर आप अपने परिवार से दूर रहते है तो आपको कैसा लगता है |

 

Buddha Short Story Hindi | भगवान बुद्ध की प्रेरणादायक कहानी

Motivational Story in Hindi | रामू – एक गाँव का ग्वार

 

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here