Story in Hindi Success Rules

Success Rules | अगर कामयाब होना है तो ये काम जरुर करें |

अगर कामयाब होना है तो ये काम जरुर करें | Success Rules

Success Rules :- दोस्तो अगर आपके पास दो ऑप्शन हों आधे घंटे की वॉक या आधे घंटे टीवी देखना तो आप क्या चुनना पसंद करोगे ?

आप भी मेरी तरह सोच सकते हैं कि क्या फर्क पड़ता आधे घंटे की वॉक से या आधे घंटे टीवी देखने से, मेरा मतलब एक बार आधे घंटे की वॉक पर जाने से आप अगले दिन फीट तो नहीं हो जाओगे और एक बार आधे घंटे टीवी देख लेने से आपकी जिंदगी बर्बाद तो नहीं हो जाएगी।असल में हम सब ऐसा ही सोचते हैं।

एक तरफ हम सोचते हैं कि छोटे फैसले कोई मायने नहीं रखते और सफलता सिर्फ बड़े-बड़े काम और बड़े-बड़े फैसले लेने से ही मिलती है दूसरी तरफ असल में हमारे छोटे-छोटे फैसले ही सबसे ज्यादा मायने रखते हैं और यही फैसले हमें बड़ी सक्सेस की तरफ ले जाते हैं।


Simple Productive Action Success Rules

जब हम लंबे समय तक रिपीट करते हैं तो वो कम्पाउंड होते जाते हैं और एक बड़ा रिजल्ट देते हैं। इसे ही “The Slight Edge” कहते हैं।

एक साल तक अगर आप डेली आधे घंटे टीवी देखने की जगह वॉक पर जाना पसंद करते हो तो आपको एक साल बाद बड़ा बदलाव दिखेगा। यह हमें पता है कि हम न तो अचानक से मोटे हो जाते हैं और ना ही पतले होते हैं |

लेकिन ज्यादातर लोग लंबी छलांग का इंतजार करते रहते है वो इंतजार करते रहते हैं कि एक दिन ऐसा आएगा कि वो पूरी तरह एक अलग इंसान बन जाएंगे। लेकिन आप तब तक बदल नहीं सकते जब तक आप वो छोटे छोटे स्टेप्स नहीं लोगे | (Success Rules)

सफलता की 5 सच्ची कहानियाँ | Top 5 Success Stories

छोटे-छोटे स्टेप्स लेना इतना आसान है कि कोई भी कर सकता है लेकिन ज्यादातर लोग छोटे-छोटे स्टेप्स लेते नहीं क्योंकि ये छोटे-छोटे स्टेप छोड़ना भी बहुत आसान हैं और यही प्रॉब्लम है। जो चीजें लॉन्ग रन में हमें सक्सेसफुल बनाती हैं हमें उनका शॉर्ट रन में कोई असर नहीं दिखता इसीलिए हम उन्हें छोड़ देते हैं।

एक और example लेते हैं। मान लो कि आपको डेली एक बुक के 10 पेजेस पढ़ना है, ये करना बहुत आसान है, कोई भी कर सकता है लेकिन ये ना करना भी आसान है इसे इग्नोर करना भी आसान है | (Success Rules)

क्योंकि अगर आज आप 10 पेजेस पढ़ते हो तो कल आप अचानक से एक सुपर इंटेलिजेंट इन्सान तो बन नहीं जाएंगे लेकिन अगर आप एक साल तक 10 पेज रोज़ पढ़ते हो तो ये हो जाते हैं करीब 15 बुक्स के बराबर अब सोंचो 15 अच्छी बुक्स पढने के बाद क्या एक साल बाद आप पहले जैसे ही रहोगे या बदल जाओगे।

अगर अब 3 साल तक डेली 10 पेजेस पढ़ते हो जबकि आपके आसपास के लोग ऐसा नहीं करते क्योंकि वो भी यही मानते हैं कि 10 पेजेस से क्या होगा और 3 साल बाद आप करीब 45 बुक्स पढ़ चुके होंगे 45 अच्छी बुक्स आपको अपने आसपास के सभी लोगों से काफी आगे ले जा सकती हैं। चाहे वो रिलेशनशिप से रिलेटेड हो, हैप्पीनेस रिलेटेड हो या फायनेंस से रिलेटेड हो | (Success Rules)

मिडिल क्लास से सुपर एक्ट्रेस तक का सफ़र | South Star Samantha Akkineni Life Story

तो ये मानना छोड़दो कि छोटी-छोटी चीजों से कुछ नहीं होता। आज से एक साल बाद आप जैसे भी इंसान बनोगे अपने छोटे-छोटे डिसिशन की वजह से ही बनोगे और आज आप जैसे भी हो वो अपने पास्ट में लिये गये डिसिशन की वजह से ही हो |

तो नेक्स्ट टाइम जब आप मार्केट जाओ तो आलू के चिप्स की जगह केले खरीदना ज्यादा बेटर डिसिशन होगा। कंप्यूटर के सामने बैठे रहने की जगह एक्सरसाइज करना ज्यादा बेटर डिसिशन होगा। यू ट्यूब पर फनी विडियो देखने की जगह एक अच्छी बुक के 10 पेजेस पढना ज्यादा बेटर डिसिजन होगा। (Success Rules)

मैं आपको रोबोट बनने के लिए नहीं कह रहा हूँ जो हर चीज सही करता हो। मैं चाहता हूं कि आप अवेयर रहो अपने डिसिशन से कि जो आज आप डिसिशन ले रहे हों उसका लॉन्ग टर्म में क्या इफेक्ट होगा। (Success Rules)

आज जो आप डिसिशन ले रहे हो क्या वो आपको आपके लक्ष्य की तरफ ले जा रहे हैं या नहीं ताकि एक साल, दो साल या तीन साल बाद जब आप खुद को मिरर में देखो तो अपने बढे हुए वजन का जिम्मेदार खुद को मनो, अपने पुअर फाइनेंशियल कंडीशन का जिम्मेदार खुद को मानो, अपनी बिगड़ी हुई रिलेशनशिप का जिम्मेदार खुद को मानें।

याद रखिए कि Slight Edge दोनों तरह से काम करती है अगर आप इसे Productively यूज करोगे तो ये आपको सक्सेस की तरफ ले जाएगी। अगर आप इसे लापरवाही से यूज करोगे तो ये आपको Failure की तरफ ले जाएगी चॉइस आपकी है।

लाखों दिलों में राज करने वाली Anupama Parameswaran की सक्सेस स्टोरी